Tajdar E Haram Naat Lyrics In Hindi

Tajdar E Haram Naat Lyrics In Hindi | Tajdar e Haram Lyrics

किस्मत में मेरी चैन से जीना लिख़्ड़े
डूबे ना कभी मेरा सफ़ीना लिख दे
जन्नत भी गवारा है, मगर मेरे लिए
आए कातिब ए तक़दीर, मदीना लिख़्ड़े

ताजदार ए हरम, हो निगाह ए करम (जे2)
हम घरीबों के दिन भी संवार जाएँगे

हामी ए बेकसान, क्या कहेगा जहाँ (जे2)
आपके दर से खाली अगर जाएँगे

ताजदार ए हरम, ताजदार ए हरम

कोई अपना नही घाम के मारे हैं हम (जे2)
आपके दर पे फर्याद लाए हैं हम
हो निगाह ए करम, वरना चोखत पे हम (जे2)
आपका नाम ले ले के मार जाएँगे

ताजदार ए हरम, ताजदार ए हरम

क्या तुमसे कहूँ आए अरब के कुंवर
तुम जानत हो मॅन की बत्तियाँ
दर ए फुरक़त तो आए उम्मी लक़ाब
काटे ना काट ती है अब रत्तियाँ
टूरी प्रीत में सुध बुध सब बिसरी
कब तक रहेगी यह बेक़बरी
गाहे बा फिग़ान दुज़्दीदाः नज़र
कभी सुन भी तो लो हमरी बत्तियाँ
आपके दर्र से कोई ना खाली गया (जे2)
अपने दामन को भर के सवाली गया
हो हबीब ए हाज़िन (जे2) पर भी ाक़ा नज़र
वरना औराक़ ए हस्ती बिखर जाएँगे

ताजदार ए हरम, ताजदार ए हरम

मैकशों आओ आओ मदिने चलें
आओ मदिने चलें, आओ मदिने चलें
इसी महीने चलें, आओ मदिने चलें

तजल्लियों की अजब है फ़िज़ा मदिने में
निगाह ए शौक की है इंतेहा मदिने में
घाम ए हयात ना ख़ौफ़ ए कज़ा मदिने में
नमाज़ ए इश्क़ करेंगे अदा मदिने में
बारह ए रास है राहे ए खुदा मदिने में

आओ मदिने चलें, आओ मदिने चलें
इसी महीने चलें, आओ मदिने चलें
मैकशों आओ आओ मदिने चलें
दस्त ए साक़ि ए कौसर से पीने चलें
याद रखो अगर (जे2), उठ गयी एक नज़र
जीतने खाली है सब्ब जाम भर जाएँगे

ताजदार ए हरम, ताजदार ए हरम

 

खोफ़ ए तूफान है, बिजलियों का है दर्र
सख़्त मुश्किल है ाक़ा किधर जाएँ हम
आप ही अगार्र ना लेंगे हमारी खबर
हम मुसीबत के मारे किधर जाएँगे
ताजदार ए हरम, ताजदार ए हरम

या मुस्तफ़ा, या मज्टेबा, एरहम लाना, एरहम लाना
दस्त ए हमा, बेचारा रा
दामा तूही, दामा तूही
मॅन आसियँ, मॅन अज़ीज़म
मॅन बेकसाम, हाल ए मारा
पुरसन तूही, पुरसन तूही
आए मुश्टूब ए ज़ुम्बर फिशान
पैइके नसीम ए सूब हदम
आए चरागर इन्सा नफास
आए मूलिसेह बीमार ए घाम
आए क़ासिद ए परखुंदपाए
तुझको उसी गुल की कसम
इन्नील टाइया री हास सबा
यौमन इला आरडिल हरम
बल्लीघ सलामी रोज़ा तंन
फ़ि हाँ नबी अल मोहतारम

ताजदार ए हरम, हो निगाह ए करम
हम घरीबों के दिन भी संवार जाएँगे
हामी ए बेकसान क्या कहे गा जहाँ
आपके दर से खाली अगर जाएँगे

ताजदार ए हरम, ताजदार ए हरम

Tajdar E Haram Naat Lyrics In Hindi | Tajdar e Haram Lyrics

apke dar pe faryaad laaye hain hum sakht mushkil hai aaqa kidhar jayen hum darr se fateh ali khan coke studio yaad rakho agar haram lyrics kismat mein meri chain se jeena sabri brothers atif aslam tajdar e haram na khaali gaya season 8 uth gayi ek nazar ho nigah e karam warna chokhat pe hum x2 dar se kabhi sun bhi toh apne daaman ko bhar ke sawaali gaya doobe na kabhi mera safeena likh de koi apna nahi gham ke maaray hain hum x2 sun bhi toh lo

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.