Phool Bhi Muskurane Laga Hai Pattiyan Muskurane Lagi Lyrics

Phool Bhee Muskuraane Laga Hai, Pattiyaan Muskuraane Lagee Hain

Aa Gaee Hai Bahaaren Chaman Mein, Titaliyaan Muskuraane Lagee Hain

 

Unake Qadamon Ka Ejaaz Hai Ye Sookhe Than Bhar Gae Bakariyon Ke

Ped Sookha Hara Ho Gaya Aur Daaliyaan Muskuraane Lagee Hain

 

Phool Bhee Muskuraane Laga Hai Pattiyaan Muskuraane Lagee Hain

 

Rahamate-Haq Barasane Lagee Hai, Har Taraph Inqilaab Aa Gaya Hai

Unakee Aamad Se Banzar Zameen Par Khetiyaan Muskuraane Lagee Hai

 

Phool Bhee Muskuraane Laga Hai Pattiyaan Muskuraane Lagee Hain

 

Dekho Beva Ke Ghar Ko Basaaya, Mominon Kee Maan Unako Banaaya

Dekho Beva Ke Haathon Mein Phir Se Choodiyaan Muskuraane Lagee Hain

 

Phool Bhee Muskuraane Laga Hai Pattiyaan Muskuraane Lagee Hain

 

Zinda Daragor Karate The Ladakee, Ho Gae Saare Insaan Vahashee

Sadaqa-E-Mustafa Hai Ai Logo ! Betiyaan Muskuraane Lagee Hain

 

Phool Bhee Muskuraane Laga Hai Pattiyaan Muskuraane Lagee Hain

 

फूल भी मुस्कुराने लगा है, पत्तियां मुस्कुराने लगी हैं

Phool Bhi Muskurane Laga Hai, Pattiyan Muskurane Lagi Hain

फूल भी मुस्कुराने लगा है, पत्तियां मुस्कुराने लगी हैं
आ गई है बहारें चमन में, तितलियाँ मुस्कुराने लगी हैं

उनके क़दमों का ए’जाज़ है ये सूखे थन भर गए बकरियों के
पेड़ सूखा हरा हो गया और डालियाँ मुस्कुराने लगी हैं

फूल भी मुस्कुराने लगा है, पत्तियां मुस्कुराने लगी हैं

रहमते-हक़ बरसने लगी है, हर तरफ इन्क़िलाब आ गया है
उनकी आमद से बंज़र ज़मीं पर खेतियाँ मुस्कुराने लगी है

फूल भी मुस्कुराने लगा है, पत्तियां मुस्कुराने लगी हैं

देखो बेवा के घर को बसाया, मोमिनों की माँ उनको बनाया
देखो बेवा के हाथों में फिर से चूड़ियां मुस्कुराने लगी हैं

फूल भी मुस्कुराने लगा है, पत्तियां मुस्कुराने लगी हैं

ज़िंदा दरगोर करते थे लड़की, हो गए सारे इन्सान वहशी
सदक़ा-ए-मुस्तफ़ा है ऐ लोगो ! बेटियां मुस्कुराने लगी हैं

फूल भी मुस्कुराने लगा है, पत्तियां मुस्कुराने लगी हैं

One thought on “Phool Bhi Muskurane Laga Hai Pattiyan Muskurane Lagi Lyrics”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.