Mere Khuda Ki Riza Hain Ali Ke Lakht-e-Jigar Hindi Lyrics

तेरा हुसैन, मेरा हुसैन
सब का हुसैन, मौला हुसैन

या शहीद-ए-कर्बला, या शहीद-ए-कर्बला

मेरे ख़ुदा की रिज़ा हैं अली के लख़्त-ए-जिगर
नबी के दीं पे फ़िदा हैं अली के लख़्त-ए-जिगर

अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर
अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर

शहज़ादा अली का, प्यारा है नबी का
ज़हरा का लाडला, महबूब सभी का

फ़क़ीरों आओ ! सदा दे रहे हैं ये अब्बास
सरापा बाब-ए-सख़ा हैं अली के लख़्त-ए-जिगर

अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर
अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर

शहज़ादा अली का, प्यारा है नबी का
ज़हरा का लाडला, महबूब सभी का

हुसैनी ख़ून से वो इंक़िलाब आया है
मिटा है कुफ्र, बक़ा हैं अली के लख़्त-ए-जिगर

अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर
अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर

तेरा हुसैन, मेरा हुसैन
सब का हुसैन, मौला हुसैन

मेरे रसूलने सरदार-ए-ख़ुल्द इन को चुना
तभी तो सब से जुदा हैं अली के लख़्त-ए-जिगर

अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर
अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर

शहज़ादा अली का, प्यारा है नबी का
ज़हरा का लाडला, महबूब सभी का

उखाड़ फ़ेंको जहाँ से यज़ीदियत का अलम
तुम्हारे साथ सदा हैं अली के लख़्त-ए-जिगर

अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर
अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर

शहज़ादा अली का, प्यारा है नबी का
ज़हरा का लाडला, महबूब सभी का

पीला गए हैं वो पानी सुलगती रेती को
मक़ाम-ए-सब्र-ओ-वफ़ा हैं अली के लख़्त-ए-जिगर

अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर
अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर

तेरा हुसैन, मेरा हुसैन
सब का हुसैन, मौला हुसैन

क़याम फ़िक्र हो क्यूँ ! दिल तेरा हुसैनी है
मरीज़-ए-दिल की दवा हैं अली के लख़्त-ए-जिगर

अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर
अली के लख़्त-ए-जिगर, अली के लख़्त-ए-जिगर

शहज़ादा अली का, प्यारा है नबी का
ज़हरा का लाडला, महबूब सभी का

मेरे ख़ुदा की रिज़ा हैं अली के लख़्त-ए-जिगर
नबी के दीं पे फ़िदा हैं अली के लख़्त-ए-जिगर

मेरे प्यारे प्यारे हुसैन, मेरे प्यारे प्यारे हुसैन

शायर:
मौलाना क़याम रज़ा

नातख्वां:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी और हाफ़िज़ अहसन क़ादरी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.