Madine Bula Lijie Hindi Lyrics

यही एक बीमार की है दुआ, मदीने बुला लीजिए
कहीं मर न जाए ग़ुलाम आप का, मदीने बुला लीजिए

हूँ बीमार-ए-ग़म, कोई चारा नहीं है, तबीबों का भी अब सहारा नहीं है
हज़ारों मरज़ की यही है दवा, मदीने बुला लीजिए

कहीं मर न जाए ग़ुलाम आप का, मदीने बुला लीजिए

ज़बां पर है काबा, है दिल में मदीना, हवाले समुंदर के टूटा सफ़ीना
चला है यही कहते या मुस्तफ़ा ! मदीने बुला लीजिए

कहीं मर न जाए ग़ुलाम आप का, मदीने बुला लीजिए

नातख्वां:

राही बस्तवी
शायर:
राही बस्तवी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.