दूश्मने आला हजरत से रख फासला
▪जो रजा का नही वो हमारा नही
⚜उनके जल्सो में जाने से क्या फायदा
❣जो रजा का नही वो हमारा नही

⚜बम धराको से हम डरने वाले नही
▪गोलीया भी चले तो रूक ने वाले नही
⚜मरते दम तक कहेंगे यही बा-खूदा
❣जो रजा का नही वो हमारा नही

⚜अब भी मौका गनीमत हें आ जाइये
▪दामने आला हजरत मे आ जाइये
⚜वरना जन्नत भी तूजको कहेंगी के जा
❣जो रजा का नही वो हमारा नही

 

⚜कोइ बेहकाने आये बहकना नही
▪छोरकर सीधा रस्ता भटकना नही
⚜मस्लके आला हजरत पे चलना सदा
❣जो रजा का नही वो हमारा नही

⚜आला हजरत से चीरते हो क्यू तूम भला
▪क्या करोगे कयामत में गर यू हूवा
⚜देखकर तूजको केहदे हबीबे खूदा
❣जो रजा का नही वो हमारा नही

⚜दूश्मना ने रजा को मिटा देंगे हम
▪खाक में उन सबो को मिला देंगे हम
⚜केहतेें सब गूलामाने गौहरपीया
❣जो रजा का नही वो हमारा नही

⚜नजदीयो को हें आना मना लिख दियां
▪बा-वजूद इसके मस्जिद में वो आ गया
⚜मार कर डंडा मस्जिद से उसको भगा
❣जो रजा का नही वो हमारा नही

⚜ले माहरेरा से मीम ओर बरेली से बां
▪ओर मिला करके दोनो को तू बम बना
⚜फिर वहाबी मोहल्ले पे जा कर गिरा
❣जो रजा का नही वो हमारा नही

⚜उनसे कूछ भी नही वास्ता क्यू मीलू
▪दूश्मनो से में हामीद रजा क्यू मीलू
⚜जब के खूद मेरे दादा ने फरमां दिया
❣जो रजा का नही वो हमारा नही

🌸मस्लके आला हजरत सलामत रहै
🌸सरकार ताजूश्शरीयाह सलामत रहै

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.