आ जये बुलवा मुझे आक टेरे दर से

जिस दर कि घुलामी को टो जिब्रील भि टर्से

 

पैदल हि णिकल्ते हैन्, मसाफत क णहिन खौफ्

ठक्ते हि णहिन हम टो मदिने के सफर से

 

सुन्नत पे टेरी चल्ने क आ जाये करीन

ये अब्र्-ए-करम काश मेरे डश्त पे बर्से

 

जर्‍अह भि लगे गोहर्-ओ-अल्मास से बध कर्

डेखे टो कोई खाक्-ए-अरब मेरी णजर से

 

एक मैन हि णहिन टालिब्-ए-जल्व मेरे अक!

हर एक मुसल्मान टेरे डीद को टर्से

 

णामूस्-ए-मुहम्मद के लिये जान भि डून ग

हो जाउन ग वाकिफ मैन षहादत के हुनर से

 

डुन्य के फकत चन्द हि लम्हात ठे गुज्रे

हो आये पयम्बर मेरे सदियौन के सफर से

 

जो षाम्-ओ-सहर सल्ले अला केह्त रहे ग

आये ग बुलवा उसरी अक के णगर से

 

कुच खौफ णहिन मुझ को कदी ढूप क अ्जद्

साय मुझे मिल्ता है रिसालत के षजर से

 

Alwada Ramzan  Lyrics

Aminah Bibi Ke Gulshan Mein  Lyrics

An Nabi Sallo Alaih  Lyrics

Apni Ata Ka Haq Ne Ye Manzar Dekha Diya  Lyrics

Aqa Aqa Bol Banday Aqa Aqa Bol  Lyrics

Aaye Aaqa Madani Aaqa

Arsh Ka Dulha Aaya Hain  Lyrics

Arsh Ki Aql Dang Hai Charkh Pe Asmaan Hai  Lyrics

Arshe Haq Hai Masnade Rifat Rasoolullah Ki Naat Lyrics

Arzo-samaa Banay Hain Naat Lyrics

As Sub Hu Bada Min Talati Hii Naat  Lyrics

Ay Habib E Ahmed E Mujtaba Dil E Mubtala Ka Salam Lo  Lyrics

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.