शाहे-मर्दां, शेरे-यज़दां क़ुव्वते-परवरदिगार

 

शाहे-मर्दां, शेरे-यज़दां, क़ुव्वते-परवरदिगार
शाहे-मर्दां, शेरे-यज़दां, क़ुव्वते-परवरदिगार

मैदां में आ गए हो तो फिर खुल के बात हो
मैं तो अली के साथ हूँ तुम किस के साथ हो

हैदर मौला अली अली, अली अली मौला
हैदर मौला अली अली, अली अली मौला

पंज नारा पंजतनी, सवा लख नारा हैदरी

हैदर मौला अली अली, अली अली मौला
हैदर मौला अली अली, अली अली मौला

नादे-अली जो आ गया मेरी ज़बान पर
जिब्रील मुस्कुराने लगे आसमान पर
मुनकिर की क्या मजाल मेरे घर में आ सके
नादे-अली जो लिखा है मेरे मकान पर

हैदर मौला अली अली, अली अली मौला
हैदर मौला अली अली, अली अली मौला

मेरी जान अली, ईमान अली, पहचान अली, है मेरी शान अली
मेरी जान अली, ईमान अली, पहचान अली, है मेरी शान अली

बेशक अली, नबी के घराने की लाज है
मुश्किलकुशा है, फ़ातिमा के सर का ताज है
वो आबरू-ए-दीने-रिसालत-मआब है
अल्लाह के हबीब का वो इंतिख़ाब है
प्यारे नबी ने चुन के इन्हें काएनात में
बेटी का हाथ दे दिया हैदर के हाथ में

हैदर मौला अली अली, अली अली मौला
हैदर मौला अली अली, अली अली मौला

अली इमामे-मनस्तो मनम ग़ुलामे-अली
हज़ार जाने-गिरामी फ़िदा ब-नामे-अली

हैदर मौला अली अली, अली अली मौला
हैदर मौला अली अली, अली अली मौला

उनकी कोई मिसाल न कोई जवाब है
मौला-ए-काएनात अली का ख़िताब है
इस वास्ते लक़ब तेरा मौला अली हुवा
जिस पर निग़ाह डाल दी वो भी वली हुवा

हैदर मौला अली अली, अली अली मौला
हैदर मौला अली अली, अली अली मौला

अली का इश्क़ मुक़द्दर संवार देता है
अली का बुग्ज़ तो चेहरा बिगाड़ देता है
अली के ज़िक्र को अदना न समझ ऐ मुन्किर
अली एक हाथ से ख़ैबर उखाड़ देता है

हैदर मौला अली अली, अली अली मौला
हैदर मौला अली अली, अली अली मौला

कैसा नसीब देखिये मौला अली का है
आँखें खुली तो सामने चेहरा नबी का है
एक नाम चार यारों में शेरे-ख़ुदा का है
एक नाम पंजतन में भी मुश्किलकुशा का है

हैदर मौला अली अली, अली अली मौला
हैदर मौला अली अली, अली अली मौला

मेरी जान अली, ईमान अली, पहचान अली, है मेरी शान अली
मेरी जान अली, ईमान अली, पहचान अली, है मेरी शान अली

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.