बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर

 

बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर
आया है तब तब मेरी ज़ुबां पर

नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

प्यारे नबी ने जीना सिखाया
बा-ख़ुदा ! इन्सां हम को बनाया
पेहनाया अख़लाक़ो-ईमां का ज़ेवर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर
आया है तब तब मेरी ज़ुबां पर

नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

खुद भी जियो, जीने दो सभी को
इज़ा न पहुंचाओ खुद से किसी को
इस्लाम का ये है दर्से-मुनव्वर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर
आया है तब तब मेरी ज़ुबां पर

नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

मीज़ां पे आक़ा हम को बचाना
दामन में अपने हम को छुपाना
इतना करम या शाफ़-ए-महशर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर
आया है तब तब मेरी ज़ुबां पर

नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

सच्चे सदा अक़वाल हमारे
सीधे सदा आ’माल हमारे
तब होगा रब महेरबान हम पर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर
आया है तब तब मेरी ज़ुबां पर

नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

राहे-ख़ुदा मे घर को लुटाए
दीने-नबी पे सर को कटाए
उक़्बा की दौलत लुटे हैं भर भर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर
आया है तब तब मेरी ज़ुबां पर

नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

सिद्दिक़ो-फ़ारूक़ो-उस्मानो-हैदर
असहाबो-अज़्वाजो-शब्बीरो-शब्बर
इन सब का एहसां है हम सब पर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर
आया है तब तब मेरी ज़ुबां पर

नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

बग़दादी मयख़ाना चलता रहेगा
अजमेरी प्याला छलकता रहेगा
नूरी मियां देंगे बरकाती सागर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर
आया है तब तब मेरी ज़ुबां पर

नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

नज़्मी को आक़ा से फैज़ मिला है
और हसनैनी जाम इसने पिया है
नज़्मी गुलामे-गुलामाने-हैदर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर
आया है तब तब मेरी ज़ुबां पर

नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर
नारा-ए-तकबीर अल्लाहु अकबर

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.